Bhagvad Gita - Lesson 22 - Suggested Answers

Q1) Explain the example of strong wind comparing with senses?
As a strong wind sweeps away a boat on the water, even one of the roaming senses on which the mind focuses can carry away a man's intelligence. Unless all of the senses are engaged in the service of the Lord, even one of them engaged in sense gratification can deviate the devotee from the path of transcedental advancement.

Q2) Explain the Shloka no. 2.69 Ya nisha...?
There are two classes of intelligent men. One is intelligent in material activities, and the other is introspective and awake to the cultivation of self-realization.Activities of the introspective sage, or thoughtful man, are night for persons materially absorbed.Materialistic persons remain asleep in such a night due to their ignorance of self-realization.The introspective person is always indifferent to materialistic happiness and distress and is undisturbed by material reactions.

Q3) Explain the example of ocean comparing with a Krishna conscious person?
Although the vast ocean is always filled with water, the ocean remains the same. It is not agitated, nor does it cross beyond the limit of its brink.That is also true of a person fixed in krsna consciousness. A krsna Conscious man is not in need of anything, because the Lord fulfills all his material necessities.He is like the ocean always full in himself.A person in Krsna Consciousness is happy in the service of the Lord, he does not even desire liberation. The devotees of Krsna have no material desires and so are in perfect peace.

Q4) What is the meaning of NISPRAHA?

A NISPRAHA is a person who has given up all desires for sense gratification, who lives free from desires, who has given up all sense of proprietorship and is devoid of false ego.

 

१.इन्द्रियों से तुलना करते हुए प्रचण्ड वायु की उदहारण के साथ व्याख्या कीजिए।

जिस प्रकार वायु का वेग नदी में नाव को अपने साथ बहा कर ले जाता है वैसे ही इन्द्रियों में से कोई एक भी इधर उधर भटक रही होती है तो वह अपने विचार के वेग से भटका कर बुद्धि को हर लेती है।

२. श्लोका नम्बर २.६९ या निशा... की व्याख्या कीजिए।

सब जीव जब रात को सोते हैं वहीं पर भगवद्भक्त जो आत्मा से साक्षात्कार करना चाहते हैं वो जागते हैं और चिंतन करते हैं और जब सब जीव जागते हैं उन आत्म निरीक्षक मुनियों के लिए रात है उदाहरण के तौर पर :- श्रील प्रभुपाद रात को जागकर धार्मिक ग्रंथों का अनुवाद करते थे

३. विशाल सागर की तुलना कृष्णाभावनामृत व्यक्ति के उदहारण से कीजिए।

सागर में नदियों का पानी , वर्षा का पानी आकर मिलता रहता है कितना भी अधिक जल भर जाए वह न तो दुखी होता है न ही अपने तट की सीमा पार करता है वैसे ही कृष्णभावनाभावित व्यक्ति इन्द्रियों और इच्छाओं की तृप्ति के लिए ज़रा भी विचलित नहीं होता वह दिव्य प्रेमभक्ति में तुष्ट रहता है और सागर की भाँति स्थिर रह कर पूर्ण शान्ति का आनन्द उठाता है।

४.निस्पृह शब्द का क्या अर्थ है?

कृष्णभावनाभावित होने की इच्छा ही निस्पृहता है।अर्थात इंद्रियतृप्ती के लिए कुछ भी नहीं करना।

Request For Callback

Thank you ! We will get to you soon.

Couldn't submit your request.