Bhagvad Gita - Lesson 17 - Suggested Answers

1. What is Sankhya philosophy?In Srimad Bhagwatam who taught this philosophy to whom ?
According to the Nirukti, or the Vedic dictionary, saṅkhyā means that which describes things in detail, and sāṅkhya refers to that philosophy which describes the real nature of the soul. In SRIMAD BHAGWATAM Lord Kapila, the incarnation of Lord Kṛṣṇa, explained it to His mother, Devahūti

2. Please explain the shloka Nehabhikrama... with an example?
In the material world an endeavour if left incomplete, doesn't bears any results. For example if the civil work of a building is complete and the finishing is leftover then it will not attract any buyers. But in the spiritual path, as confirmed by the Lord Himself in this shloka, even a little service is accounted for and bears permanent results. To cite an example, if someone takes up the chanting of the Holy Name, even if unwillingly, and gives it up after chanting only one round in a liftime then the person will definitely get an opportunity to start from 2 rounds in his next life

3. How are Guru and Krishna connected? What happens when we satisfy our Guru ?
Service in Kṛṣṇa consciousness is, however, best practiced under the able guidance of a spiritual master who is a bona fide representative of Kṛṣṇa, one should accept the instruction of the bona fide spiritual master as one’s mission in life. “By satisfaction of the spiritual master, the Supreme Personality of Godhead becomes satisfied.

4. What is there in Swarga or heaven? Is the enjoyment in Swarga the highest?

In Swarg there are beautiful Nandana- Kanana gardens, som-ras or very high quality of wine with extreme high supply, there is association with angelic or beautiful women and the pleasures are manifolds compared to the materialistic pleasures that one experiences in his human life. But all this is temporary happiness and the enjoyment in the Swarg is not at all the highest. The highest transcendental happiness is attached the Lotus feet of Sri Krishna ji who guarantees us total blissfullness and happiness we will achieve when we are work in Krishna Consciousness and surrender unto Him.

१.साख्य दर्शन क्या हैं? श्रीमद्भागवत में यह दर्शन किसने किसको सिखाया था?

संख्या दर्शन आत्मा के वास्तविक स्वभाव को बताती है। भगवान् कृष्ण द्वारा आत्मा और शरीर का अत्यंत विशद वैश्लेषिक अध्ययन प्रस्तुत किआ गया हैं और निरुक्ति कोश की शब्दावली  में इस विशद अध्ययन को संख्या कहा गया है।  भगवन कृष्ण के अवतार भगवान् कपिल ने अपनी माता देवहुति के समक्ष श्रीमद्भागवत में वास्तविक संख्या दर्शन पर प्रवचन दिया था।

२. "नेहाभिक्रमनाशोऽसि्त ...." श्लोक का अर्थ एक उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए।

इस प्रयास में न तो हानि होती हैं न ही उन्नति अपितु इस पथ पर की गई अल्प प्रगति भी महँ भय से रक्षा कर सकती हैं।  अजामिल ने कृष्णभावनामृत में अपने कर्त्तव्य का कुछ हो प्रतिशत पूरा किआ था किंतु कृष्ण की कृपा से उसे शत प्रतिशत लाभ मिला। कृष्णभावनामृत में किया गया कार्य मनुष्य को इस शरीर के विनष्ट होने पर भी पुनः कृष्णभावनामृत तक ले जाता है।

३.गुरु एवं कृष्ण कैसे जुड़े हुए हैं।जब हम गुरु को तुष्ट करते हैं तो क्या होता हैं?

कृष्णभावनामृत में सेवा गुरु के समर्थ निर्देशन में ही ठीक से हो पाती है क्योकि गुरु कृष्ण का प्रामाणिक प्रतिनिधि होता हैं। गुरु की तुष्टि से भगवन प्रसन्न होते हैं। गुरु की प्रसन्नता के बिना कृष्णभावनामृत के स्तर तक पहुंच पाने की कोई सम्भावना नहीं रहती।

४.स्वर्ग में क्या हैं? क्या स्वर्ग में आनन्द सबसे अधिक हैं?

स्वर्ग में इन्द्रियतृप्ति के अनेक साधन हैं। सोमरस है, नंदन कानन नमक अनेक उद्यान हैं , दैवी सुंदरी स्त्रियों का संग है, हज़ार वर्षो की आयु है।  अल्पज्ञानी के लिए स्वर्ग में ही सबकुछ है किंतु  ज्ञानी को तो गोलोकधाम प्राप्त कर मुक्ति पाने में ही अत्यंत सुख का अनुभव होता है।

Request For Callback

Thank you ! We will get to you soon.

Couldn't submit your request.